Shayari

शायरी- पहेली

हम तन्हा होकर भी तन्हा नहीं
जाने कैसी पहेली है
मीठी यादों की एक दर्दभरी दास्ताँ
अब यही हमारी सहेली है

Advertisements